सोमवार, 26 जून 2017

कनाडा डायरी की 19वीं कड़ी


डायरी के पन्ने 
कनेडियन माली 
सुधा भार्गव

           साहित्य कुंज में प्रकाशित 

16 5 2003
कनेडियन माली
    
    हम सबको भगवान ने बनाया है । वही हमारा पालनहारा है। पर पेड़-पौधों का भगवान माली है। वही बीज बोकर उन्हें उगाता है। उसी की देखरेख में वे बड़े होकर फल फूलों से लदे धरती माँ की शोभा बढ़ाते हैं। 
     कनाडा में ऐसे माली घर-घर बसते हैं, जिन्हें प्रकृति से अगाध प्यार है। असल में कनाडा वासियों को बागबानी का बड़ा शौक है। महिलाएं भी इस काम में पीछे नहीं रहती। कामकाजी महिलाएं रोज शाम को अपने बगीचे की सुंदरता निहारते मिलेंगी। जमीन खोदने,घास हटाने का काम ,बीज बोने ,पौधों में पानी देने आदि से जरा भी नहीं कतराती। मुझे लगता है यह शौक उनके खून में है। बच्चे तक माँ का हाथ बंटाते हैं । बचपन से ही उनके हाथ में छोटी-छोटी -खुरपी, बाल्टी थमा देते हैं जो खिलौनों से कम नहीं दीखतीं। खेल- खेल में ही वे फूल-पौधों के बारे में बहुत कुछ जान जाते हैं और उनसे उन्हें लगाव हो जाता है।
    बच्चा छोटा हो या बड़ा ,एक हो या दो,काम महिलाओं के कभी स्थगित नहीं होते। वे बहुत मेहनती और ऊर्जावान होती हैं। गोदी का बच्चा हो तो उसे प्रेंबुलेटर में लेटा खुरपी चलाने लगती हैं। बच्चा घुटनु चलता हो तो कंगारू की तरह आगे या पीछे एक थैली बांध लेती है और इस बेबी केरियर में बच्चे को लिए अपने काम निबटाती हैं। उसमें बच्चा आराम से बैठा  रहता है और हिलते- डुलते सो भी जाता है। सबसे बड़ी बात बच्चे को इसका आभास रहता है कि वह अपनी माँ के साथ है।
    छुट्टी के दिन तो पति-पत्नी  दोनों ही अपनी छोटी से बगीची को सजने सँवारने में लग जाते हैं। बगीचा देखने लायक होता है। जगह जगह रोशनी जगमगाती मिलेगी। लाल,पीले ,नीले फूलों के बीच मिट्टी- काँच के बने मेंढक- मछली -बतख दिखाई देंगे जो सचमुच के प्रतीत होते हैं।  प्राकृतिक दृश्य उपस्थित करने के लिए उनके सामने पानी से भरा बड़ा सा तसला रख दिया जाता है या छोटा सा कुंड बना देंगे। इनकी खूबसूरती देख मेरी निगाहें तो रह रह कर उनमें ही अटक जाती।
    अपने बाग के फूलों को कभी मैंने उन्हें तोड़ते नहीं देखा। घर में फूल सजाने के लिए वे बाजार से खरीदकर लाते हैं। अपने घर-आँगन की फुलवारी को नष्ट करने की तो कल्पना भी नहीं कर सकते।  यदि हम भी इनकी तरह फूल-पौधों को  प्यार करने लगें तो पेड़ कटवाकर धरती माँ को कष्ट देने की बात किसी के दिमाग में ही न आए।
*
    यहाँ रहते रहते मेरा बेटा भी अच्छा खासा माली बन गया है। बच्चे का  घर में आगमन होने से कम कुछ बढ़ गया है इस कारण चाँद को बगीचा साफ करने में देरी हो गई। बगीचा साफ करना भी बहुत जरूरी था। शीत ऋतु में यह बगीचा बर्फ से ढका श्वेत श्वेत नजर आने लगा । जगह जगह हिम के टीले बन गए। सूर्यताप से जैसे ही बर्फ ने पिघलना शुरू किया उसके नीचे दबी घास और पत्ते भीग  गए। जल्दी ही सड़कर बदबू फैलाने लगे। इससे पड़ोसियों को एतराज भी हो सकता था।
    अवसर पाते ही चाँद ने बागवानी करने के लिए कपड़े बदले। टोपी पहनकर दस्ताने चढ़ाए और उतार पड़ा पेड़-पौधों के जंगल में। लंबी लंबी कंटीली झाड़ियाँ,सूखे-गीले पत्तों का ढेर ,ढेर सी उगी जंगली घास को देख मैं तो सकते में आ गई-चाँद सा बेटा मेरा चाँद अकेले कैसे करेगा?तभी उसे गैराज से इलेक्ट्रिक हेगर ,लॉनमोवर निकालते देखा। शीतल  उसकी सहायता कर नहीं सकती थी। मैं और मेरे पति खड़े खड़े देखने लगे। पर ज्यादा देर उसको अकेले इन मशीनों से जूझते देख न सके। हम दोनों ने आँखों आँखों मे इशारा किया। अंदर जाकर पुराने कपड़े पहने,टोपी और दस्ताने पहनकर बाहर निकल आए। दरवाजे पर ही 2-3 जोड़ी चप्पलें पड़ी थी जिन्हें पहनकर घर के अंदर नहीं घुस सकते थे।   उनको पहना और बागबानी करने निकल पड़े। हमें खुरपी,फावड़े चलाने का ज्यादा अनुभव न था । तब भी बेटे की मदद करने के लिए दृढ़ प्रतिज्ञ थे।
    हम पूरे कनेडियन माली लग  रहे थे। चाँद हमें देखकर बड़ा खुश हुआ। इसलिए नहीं कि उसे मददगार मिल गए बल्कि इसलिए कि इस उम्र में भी उसके माँ-बाप में जवानी का जोश है । वह  बिजली के यंत्र की सहायता से घास-पत्तों  को रौंदता,कट कट काटता चल पड़ा। मैं कचरे को दूसरे  यंत्र की सहायता  से कोने में इखट्टा करने लगी।बाद में हमने मिलकर प्लास्टिक के बड़े बड़े बोरों में भर मुंह बंद कर दिया। रात में चाँद उन्हें उठाकर अपने  घर के सामने सड़क पर रख आया ताकि सुबह कचरे की गाड़ी आए तो बोरों को ले जाए।
    थोड़ा -बहुत काम धीरे- धीरे करके बगीचे  को इस लायक बना दिया कि उसमें बैठा जाए। यहाँ बड़ी सी मेज व दस कुरसियाँ पड़ी है। साथ ही इलेक्ट्रिक तंदूर भी एक कोने में रखा है। अब तो छोटी छोटी पार्टियां वहीं होने लगीं। सुबह –शाम की चाय भी वहीं पीते हैं।सुबह की ताजी हवा और गुनगुनी धूप के बीच उड़ती तितलियों को देखते देखते चाय की चुसकियाँ लेने का मजा कुछ और ही है।
क्रमश:




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें