मंगलवार, 27 मई 2014

मोदी अध्याय

महाविजय का नाद 




हमारे देश की राजनीति में मोदी अध्याय शुरू हो चुका है। कल 26 मई को भव्य शपथ ग्रहण समारोह में नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद और गोपनीयता की शपथ ग्रहण की। वे भारत के15वे प्रधान मंत्री बने हैं।समारोह के सुनहरे अवसर पर राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में करीब 3000 लोगों से भी ज्यादा उपस्थित होने का अनुमान है ।
बड़ी बड़ी हस्तियो के साथ पाकिस्तान के प्रधान मंत्री आए थे। दक्षेश के सदस्य (दक्षीण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ के सदस्य )भी मौजूद थे।। उनको आमंत्रित करके हमारे प्रधानमंत्री ने एकता की ओर ठोस कदम बढ़ाया है । 

राष्ट्रीय धुनों के साथ समारोह का आरंभ और अंत हुआ। नरेंद्र मोदी ने शपथ लेने के बाद देश के नाम संदेश दिया –आइए हम सब मिलकर एक सुनहरे और सशक्त भारत का निर्माण करें । 

कल देशवासियों की हजार आँखें दूरदर्शन में दिखाई देने वाले इस समारोह और अपने नए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर लगी थीं जिन्होंने बड़ी उम्मीदों के साथ उन्हें अपना प्यार दिया ,विश्वास दिया और सिर माथे पर बैठाया । नए प्रधान मंत्री की राह भी काँटों से भरी हैं पर उनमें गज़ब का आत्मविश्वास है।एक चाय वाला प्रधान मंत्री कैसे बन गया ?यह कोई चमत्कार नहीं हुआ है बल्कि उनकी वर्षों की कड़ी तपस्या का फल है। 12 वर्ष गुजरात के मुख्य मंत्री रहकर राजनैतिक अनुभवों के भंडार हैं। अपने रण चातुर्य ,दूरदर्शिता ,सकारात्मक सोच और पक्के इरादों के कारण भारतीय जनता की उम्मीदों पर मेहनती प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी अवश्य खरे उतरेंगे ऐसी हमारी सकारात्मक सोच है।   


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें