मंगलवार, 15 जनवरी 2019

कनाडा डायरी की छब्बीसवीं कड़ी



साहित्यकुंज में प्रकाशित 
अंक  जनवरी  2019


डायरी के पन्ने 


अबूझ पहेली
सुधा भार्गव  

दिनांक 23:6:2003 

    हम जब से ओटावा आए है,बेटा शाम को ऑफिस से घर जल्दी आने की कोशिश में रहता है। ऑफिस में समय से पाँच मिनट  भी ज्यादा रहना उसे अखरता है। एक दिन उसके बॉस ने उसकी इस जल्दबाज़ी को भाँप लिया। अवसर मिलते ही उसने निशाना लगा दिया-“चाँद ,तुमको आजकल हमारे साथ बात करने का भी समय नहीं रहता!”
    “इंडिया से मेरे माता- पिता आए हुए हैं।”
    “कब तक रहेंगे? 
    “तीन माह।”
    “ती---न माह ! क्यों?
    “क्योंकि वे मुझसे मिलने ही तो यहाँ आए हैं।”
    “मेरे माता-पिता तो मुश्किल से मेरे पास दस दिन रह पाते हैं। एक हफ्ते बाद ही मेरी माँ का पत्नी से झगड़ा होने लगता है।”
    “मेरा तो यहाँ कोई भाई-बहन भी नहीं है। मुझे उनकी याद बहुत सताती है। घर –गृहस्थी की जिम्मेदारियों के कारण वे मेरे पास जल्दी-जल्दी नहीं आ सकते। करीब तीन वर्ष के बाद आए हैं। मैं तो  पल-पल उनके साथ रहना चाहता हूँ। उनके आने से लग रहा है मानो मेरा बचपन लौट आया है।”
    बॉस अवाक होकर चाँद की बात सुनता रहा। फिर उसने किसी दिन उसे नहीं टोका। उसके लिए चाँद की माता -पिता के प्रति आसक्ति अबूझ पहेली थी।
क्रमश :


गुरुवार, 13 दिसंबर 2018

कनाडा डायरी की चौबीसवीं कड़ी


साहित्य कुंज में प्रकाशित 
अंक दिसंबर 2018 


http://www.sahityakunj.net/LEKHAK/S/SudhaBhargava/25_

pitridiwas.htm
डायरी के पन्ने 

सुधा भार्गव   


दिनांक :19 6 2003   

:       ओंटेरिओ में पितृ दिवस मनाने की तैयारी ही रही है । हर पत्रिका में पिता से संबन्धित कोई विज्ञापन या  उनसे जुड़ी यादें पढ़ने को मिलती हैं।बच्चे अपने पिता को उपहार आदि देकर उनको मान देते है और प्यार जताते हैं। मेरे ख्याल से मेरी  पोती अवनि को भी चाहिए कि अपने पापा को कोई गिफ्ट दे। मगर देगी कैसे! नन्हें नन्हें हाथ,नन्हें नन्हें पैर । एक कदम चल तो सकती नहीं। हाँ याद आया –कुछ दिन पहले  मातृ दिवस था। उसका पापा एक सुंदर सी टीशर्ट  खरीदकर ले आया  और अवनि से  उसकी माँ को दिलवा दी । बस मन गया मातृ दिवस । पितृ दिवस भी ऐसे ही मन जाएगा। माँ लाएगी और वह अपने पापा को टुकुर टुकुर देखती दे देगी। वैसे मेरा बेटा उसे बड़ा प्यार करता है। उसके लिए कहो तो आकाश के तारे तोड़कर ले आए। ऑफिस से आते ही उसे बाहों के झूले में झुलाकर अपनी सारी थकान भूल जाता है।
      इस नन्ही बच्ची के संग-साथ ने तो मुझे अपने बचपन के कगार पर ला खड़ा किया है। पिता जी का चेहरा मेरी आँखों में घूम-घूम जाता है। हम छह भाई-बहन—पिताजी ने  हमारे लिए क्या नहीं किया। वे मुझे  बहुत प्यार करते थे। अपने माँ-बाप की मैं पहली संतान थी । हमेशा अपने साथ साथ रखना चाहते। घर में घुसते ही कहते –बड़ी ज़ोर से भूख लगी है। बिटिया कहाँ है?इसका मतलब था --वे मेरे साथ खाना खाएँगे।
        वे शान-शौकत पसंद शौकीन मिजाजी थे। बाबा जी तो कहा करते –तूने मेरे घर क्यों जन्म लिया ,लिया होता जन्म किसी राजा - महाराजा के।जरा भी हम उनकी नापसंद के कपड़े या पुराने डिजायन की ड्रेस  पहनते तो उनका गट्ठर बनवाकर नौकरों को दे देते और नए-नए कपड़े तुरंत बनवा देते। जरा भी चटका या किनारे से टूटा कप-प्लेट  देखते तो तुरंत फिकवा देते। तहसील में रहते हुए भी  अगले दिन ही शहर से नए कप-प्लेट आ जाते। उन दिनों मिर्जापुर के कालीन बहुत प्रसिद्ध थे। वहीं के  2-3 कालीन दीवार से सटे चादर में लिपटे खड़े रहते। खास उत्सवों पर ही वे बिछाए जाते। किसी के घर में शादी होती तो बड़े उदारता से दे  दिए जाते। जरूरत मंद आदमी को घर बनाने के लिए जमीन का टुकड़ा लिया तो वापस लेने का नाम नहीं। चुप चुप गरीबों की मदद करते और उसे मुंह पर नहीं लाते।
      उनकी माँ बचपन में ही छोड़कर चल बसी। अधूरी इच्छाओं और ममता के अभाव में बड़े हुए। निश्चय किया बच्चों के पालन में कोई कमी न रखेंगे। उन दिनों पत्थर के कोयलों की अंगीठी पर पानी गरम होता।गीजर का चलन न था। सर्दियों के दिनों में नौकर तो सुबह 8बजे  आता पर हमेँ सुबह ही नहा धोकर स्कूल जान होता। वे सुबह 6बजे उठकर कड़ाके की ठंड मेँ अंगीठी जलाते,हमारे नहाने को पानी गरम करते।अम्मा को नहीं जगाते। वे छोटे भाई के कारण रात को ठीक से सो नहीं पाती थी। दूसरे डरते कि सुबह उठने पर माँ को ठंड लग गई तो उसका असर बच्चे पर भी होगा। डॉक्टर थे इस कारण सफाई का बहुत ध्यान रखते थे। बच्चे होने के समय दाई आती माँ और बच्चे की देखभाल के लिए पर पिता जी उस पर ज्यादा विश्वास नहीं करते और अपनी देख रेख में बहुत से काम कराते।
      गलती होने पर वे मुझे डांटते । कभी कभी थप्पड़ भी गाल पर रसीद कर देते। तो बस फुला लेती मुंह। न कुछ खाती ,न कुछ पीती। औंधे मुंह लेटकर सोने का बहाना करती पर इंतजार करती रहती कब पिता जी आएँ ,कब मुझे मनाएँ। बीच -बीच में आँखें खोलकर देखती भी पर झट से आँखें बंद कर लेती---कही मेरी  नाटकबाजी  न पकड़ी जाए। थोड़ी देर में ही पिता जी का गुस्सा शांत हो जाता और मेरी सुध लेने दौड़े- दौड़े आते। बस फिर तो प्यार की बौछार शुरू—मेरे गाल पर प्यार करते,उठाते,खाना खिलाते,पैसों से मेरी गुल्लक भर देते। ऐसा था पिता का प्यार।
      पिता जी मुझे न तो साड़ी पहनने देते थे और न ही खाना बनाने देते थे।कहते- खाना बनाने को तो ज़िंदगी पड़ी है। शादी से पहले जो सीखना है सीख लो। बाद में न जाने कैसी परिस्थिति हो। बी॰ए॰एक दिन माँ ने कहा-बेटे कभी कभी साड़ी भी पहन लिया करो ताकि बांधना आ जाए । मैंने रेशम की हलकी  सी साड़ी चाची की सहायता से पहन ली।
      इतने में पिता जी आ गए –"कहीं जाना है क्या?"
      "नहीं तो। मेरे गले से मुश्किल से निकला ।" मैं समझ गई थी कि उनको मेरा साड़ी पहनना पसंद नहीं आया।
      "तो साड़ी उतारकर आओ। सलवार कुर्ता पहनो।"
       उस समय तो बुरा लगा पर उनकी नापसंद का कारण बाद में समझी। पिता जी को इस बात का  अहसास होता था कि अब मैं बड़ी हो गई हूँ। एक दिन ससुराल जाना होगा। इस विचार से ही वे तड़प जाते होंगे। शादी  के बाद भी मैंने उनके सामने डरते डरते साड़ी पहननी शुरू की थी। अब तो ऐसी डांट-फटकार के लिए तरसती हूँ।
       गर्मी की छुट्टियों में ताई अलीगढ़ से आईं। मैं बी॰ ए॰ की परीक्षा देकर हॉस्टल से  घर पहुँच चुकी थी। 2-3 दिन तो सोती रही,मित्रों से मिलती रही पर रसोई में एक दिन जाकर नहीं झाँका। हाँ,बड़ों को खाना खिलाने ,मेज लगाने का काम जरूर करती थी।
        ताई से चुप न रहा गया। बोलीं-"लाला,मुन्नी अब काफी बड़ी हो गई है। एक-दो साल बाद हाथ पीले हो जाएंगे। ससुराल जाकर खाना तो पकाना ही पड़ेगा। उसे दाल –रोटी तो बनानी आनी ही चाहिए।" ताई पिता जी को लाला  कहती थीं।
      पिताजी हँसकर बोले-"भाभी ,इसे चाय बनानी बहुत अच्छी आती है।" ताई की भी हंसी फूट पड़ी। स्नेह का झरना फूट रहा था।
      विदायगी के वे पल मुझे अभी तक  याद हैं जब पिताजी मुझे अश्रुपूर्ण नेत्रों से देखते हुए ससुर जी से बोले- "मेर बेटी को सब कुछ आता है पर खाना बनाना नहीं आता है।" मेरे ससुर जी भी बहुत नेक व सरल हृदय के थे। तुरंत बोले -"चिंता न करें ,खाना बनाना हम सीखा देंगे। बाकी काम तो आपने सिखा ही दिए हैं।"
       पिता पिता ही होते हैं। उनके होने से हर संकट की घड़ी में रक्षा की छतरी हमारे ऊपर तनी रहती है।
      कहाँ से कहाँ बह चली। किस्सा शुरू हुआ था अवनि से और अंत हुआ मुझ पर। मैंने भी यादों के आगोश में बैठकर पितृ दिवस मना डाला । 


गुरुवार, 27 सितंबर 2018

॥ 3॥ बोलता कल


स्मृतियों की सन्दूकची 
  

 नीमराना ग्लास हाउस
 का  
  बोलता कल 

Image result for pixel free images neemrana glass house

       उत्तरांचल जिला टहरी गढ़वाल में एक गाँव है –गुलार डोंगी । यह ऋषिकेश से 23 किलोमीटर दूर बद्रीनाथ रोड पर स्थित है । हरिद्वार की यात्रा के दौरान मैं वहाँ अपने  परिवार सहित पहुंची । वहाँ  मंद –मंद मुसकाती –बहती गंगा सैलानियों को सहज भाव से  अपनी ओर आकर्षित कर लेती है । इसके किनारे भारतीय परिवेश का रक्षक नीमराना ग्लास हाउस होटल बड़े गर्व से भव्य रूप में खड़ा है। सन् 2005 में हम इसी होटल में ठहरे थे। 
       इसमें प्रवेश करते ही अनुभव हुआ मानो हम चौदहवीं से इक्कीसवीं सदी के बीच विचरण कर रहे हैं । अदृश्य रूप में आत्माएँ आ –जा रही हैं ,हमसे टकरा रही हैं । अचानक मुझे किसी की उपस्थिति का एहसास हुआ जो मुझसे सटते हुए बोली-आधुनिकी बाना धरण किए तुम जैसे लोगों को भी मैं अपनी बस्ती में खींच लाई। यह नगरी पुरानी जरूर है पर एक बार तुम्हारे दिल में पैठ गई तो मुझे विस्मृत करना कठिन है।
      ग्लास हाउस में जरा आगे बढ़े तो कदम ड्राइंग रूम में कदम पड़े । चूंकि उसकी दीवारें शीशे की हैं इसलिए उसके पार दिखाई देने वाली पर्वतों की श्रंखलाओं ,उन पर छिटकती हरियाली , गंगा की लगातार उठती –गिरती चमकती लहरों ने मन भिगोकर रख दिया ।




       एक कोने पर नजर पड़ी तो देखा – पत्थरों को एक दूसरे पर रखकर कैलाश परवत बनाने का सफल प्रयास हुआ है । उसके मध्य प्रतिष्ठित है हर –हर महादेव की विराट मूर्ति । हठात रसखान की पंक्तियाँ गुनगुनाने लगी –
     
     भाल में चंद्र बिराजि रहौ,ओ जटान  में देवी धुनि लहरै ।
     हाथ सुशोभित त्यौं तिरसूल ,गरे बीच नाग परे फहरै।।

     महाराज भागीरथ ने तो अपने पूर्वजों का उद्धार करने के लिए शिव आराधना की थी पर लगता है भूतलवासी भी तर गए । शायद तभी से मृत्यु के बाद राख़ और अवशेष गंगा में प्रवाहित करने की परंपरा ने जन्म लिया । ।
     एक दीवार पर करीब 10 -12 पेंटिंग्स शीशे में जड़ित थीं जिनमें सूर्य पूजा ,विष्णु पूजा ,अग्नि पूजा ,महादेव पूजा ,पवन पूजा ,गायत्री मंत्र और गौ पूजा के विभिन्न स्वरूप अति कुशलता से चित्रित किए गए थे । एक चित्र में ब्राहमन सूर्य की अर्घ्य  दे रहा था दूसरे में वह गाय के पास खड़ा था । इसका कारण हमारी समझ में न आया । पुस्तकाध्यक्ष ने बताया –ब्राहमन और गाय एक ही कुल के दो भाग हैं। ब्राहमण के हृदय में वेदमंत्र निवास करते हैं तो गौ के हृदय में हवि(आहुति देने की वस्तु )रहती है । गाय से ही यज्ञ प्रवृत्त होते हैं । 
     उन्होंने एक दिलचस्प बात और बताई की गौ में सभी देव प्रतिष्ठित् हैं  । चित्र में भी  सींगों की जड़ों में ब्रह्मा –विष्णु और बीच में महादेव थे । गौ के ललाट में पार्वती ,नेत्रों में सूर्य –चंद्रमा का निवास था ।
     ब्रह्म पूजा वाले चित्र में ब्रहमा के चार मुख थे जिनसे चारों वेद झर रहे थे । चित्र को देखने वाले दर्शक आपस में बातें कर रहे थे और मैंने उनमें से एक को कहते सुना –ब्रह्मा के मल से रुद्रका और वक्ष से विष्णु का आविर्भाव हुआ । प्रलय के बाद सृष्टि की रचना ब्रह्मा ने की ,इसलिए वे सर्वश्रेष्ठ हैं ।
     शहरी आबोहवा में मैं ऋषि –मुनियों की वाणी को भूल ही गई थी । यहाँ आना सार्थक हो गया था । मैंने कहीं पढ़ा था –ब्रह्मा को तरह –तरह से स्नान कराया जाता है पर क्यों ?मेरी यह गुत्थी उलझी हुई थी । मैंने यहीं इसे सुलझाना चाहा ,फिर मौका मिले या न मिले  । सामने सोफे पर गेरुआ वस्त्र धारी जटाओं वाले संत  बड़ी गंभीर मुद्रा में बैठे कल्याण पत्रिका के पन्ने उलट रहे थे । मैंने  ज्ञान मूर्ति समझ अपना कुलबुलाता प्रश्न उनके सामने रख दिया । चेहरे पर हंसी लाते हुए बोले –तुमने ठीक ही सुना है । दूध से ब्रहमा को स्नान करने से मरने के बाद ब्रहमलोक जाते हैं । दही से स्नान कराने से विष्णुलोक की प्राप्ति होती है । शहद स्नान से तो इंद्रलोक मिल जाता है । ईख के रस में उन्हें डुबोने से सूर्य लोक गमन होता है । गायत्री मंत्र के साथ ब्रहमा की स्तुति की जाए तो लगता है मानों ब्रहमलोक में ही खड़े हैं । उनकी बातें सुनकर प्राचीन धर्म समन्वित अध्यात्म के दर्शन हुए ।
     अध्यात्म दर्शन का श्रेय अमनदास जी को जाता है जो एक कवि ,शिल्पकार और कलाकार हैं । ये पुरानी इमारतों को खरीदकर उन्हें नया रूप देते हैं पर कलेवर वही वर्षों  पुराना होता है । ग्लास हाउस भी एक समय गढ़वाल के महाराजा का हंटिंग लॉज था । उसे कुशल कारीगरी का दस्तावेज़ बनाकर भारतीय संस्कृति का अनुपम उदाहरण पेश किया गया  है ।
     थोड़ी देर आराम फरमाने को हम कमरे की ओर चल दिये । लेकिन आराम कहाँ –वहाँ तो जिज्ञासा सिर उठाये खड़ी थी  । वहाँ बिताया एक एक पल जीवंत होता जा रहा  है ।  
मेरे  कमरे का नाम नर्मदा है ,बेटे के कमरे का नाम  गोदावरी और  उसके सास-ससुर के कमरे का नाम है गोमती ।  वाह क्या कहने । उससे जुड़ा एक प्रसाधन  कक्ष है । अरे एक स्टोर नुमा कोठरी भी है । जरा देखूँ इसमें क्या है ?-- यह तो बंद है । जरूर राजा यहाँ खजाना रखता होगा या  उसकी रानियाँ लकड़ी की बकसिया में अपने गहने रखती होंगी । खुला होता तो जरूर ताक झांक करती । मन बहुत चंचल हो उठा है ।
      पलंग तो चमकता हुआ बेंत का है जिसका सिरहाना अर्ध चंद्राकार है । इतना बड़ा कि चार आराम से पैर फैला लें । एक तरफ सोफा मेरे बाबा के समय का है पर लगता बड़ा मजबूत है । पलंग के दोनों ओर हाथरस की बुनी दरियाँ गलीचे की तरह बिछी हैं । सामने की दीवार मे आतिशदान है ताकि कोयले जलाकर कमरा गरम किया जा सके । दीवार में बनी लकड़ी की नक्काशीदार अलमारी इस बात का सबूत है कि यहाँ रहने वाला धनी व शौकीन मिजाज का होगा ।  फर्श वर्षों पुराना लाल रंग का पर चमक में कोई कमी नहीं  ।
      मेज पर एक कोने में चिमनी है शीशे की । उसके नीचे मोमबत्ती रखी है जिससे साफ पता लग रहा है कि उन दिनों मिट्टी के लैंप जला करते थे । मैंने खुद अपने पिता जी को शीशे की चिमनी को मुलायम कपड़े से साफ करते देखा है । यहाँ आकार बचपन के कई सुप्त कोने जी उठे ।       मोमबत्ती के ऊपर चिमनी रखकर सजावट का एक नया नमूना पेश किया है। बिजली के लट्टुओं के सामने चिमनी वाले लैंप की रोशनी कुछ नहीं  पर प्राचीन परंपरा व रीति रिवाजों से पर्दा उठते देख अति सुखद अनुभूति होती है । कमरे के दरवाजे और खिड़कियाँ सब शीशे के हैं । और तो और मेरे सामने जो मेज रखी है –बड़ी खास है । बस पत्थर पर भारी सा एक शीशा रख दिया है ।
काफी समय से स्नानागार जाने से जी चुरा रही थी कि होगा गंदा -संदा पर कब तक बचती । आशा के विपरीत देखा -फर्श पर टाइल्स लगी हैं । नल के नीचे अवश्य लकड़ी का पट्टा पट्टियों वाला रखा हुआ है । मेरी पोती उसे हटाने लगी । उसको बड़ा अजीब सा लगा । मैंने उसे समझाया –"बेटा ,पुराने समय इसी पर बैठकर नहाते थे।''
     "क्या दादी माँ आप भी इस पर नहाई हो ?"
     "घर में तो नहीं देखा पर धर्मशाला में नहाने की जगह ऐसा पट्टा रखा रहता था । अब तुम पूछोगी –धर्मशाला किसे कहते हैं ?मेरी बच्ची छुटपन में जब मैं अपनी माँ और पिताजी के साथ घूमने जाती थी तो होटल में नहीं धर्मशाला में ठहरती थी।''
    मैं  पट्टे पर नहाने बैठी । न जाने उस पर कितने राजा रानी नहाये होंगे । वे तो चले गए पर उनकी रूह मुझसे कुछ कहना चाह रही  थी  ,बड़े रोमांचकारी क्षण थे । तौलिया लेने को हाथ बढ़ाया जो लकड़ी की खुनटियों के सहारे लटका हुआ था । ऐसा स्टैंड मैंने कनाडा में भी देखा था पर उसे जमीन पर टिकाकर बयर –व्हिस्की की बोतलें रखी थीं । वैसे भी भारतीय शिल्पकला का तो पूरा विश्व कायल है ।
      कमरे में ज्यादा देर तक बैठना मेरा मुश्किल हो गया । न यहाँ कोई टेलीफोन न ही दूरदर्शन। असल मैं यह कोई विलास स्थल नहीं,विभिन्न संस्कृतियों के मेल मिलाप का शांतिस्थल है । पहली मंजिल की बालकनी से झांक कर देखा –ड्राइंगरूम में अनेक धरमालम्बी एकत्र हो गए हैं और उनमें कोई बहस छिड़ी है ।
       कोई ताश खेल रहा है तो कोई गजलें सुन रहा है । इतना होते हुए भी चुप्पी का आभास होता था ।
      हम भी नीचे उतर आए ।ड्राइंग रूम में बैठे भी पर्यटक उचक उचककर बाहर की छटा देखना चाहते थे । संध्या सुंदरी धीरे –धीरे अपने पग धरती पर रख रही थी  । उसके मनमोहक रंगों पर मोहित हो  गंगा की लहरे डूबती उतराती चंचल हो उठी थी । गगन चुम्बी पर्वत वात्सल्यभाव से पुत्री गंगा को निहार पुलकायमान प्रतीत होता था । 

उसे देख कवि दिनकर की पंक्तियाँ याद आने लगीं –

      मेरे नगपति !मेरे विशाल
     साकार दिव्य गौरव विराट
     पौरुष के पुंजीभूत ज्वाल
     मेरे भारत के दिव्य भाल ।

     दोपहरी का ताप शांत हो चुका था । हम पर्यटकों  ने  गंगा के किनारे –किनारे चलकर घाटों पर पहुँचने का निश्चय किया । बहता पवन शीतलता व नवजीवन प्रदान कर रहा था । अनेक देवी –देवताओं को प्रणाम करते हुए हम उस पक्के घाट पर पहुंचे जहां आरती आरंभ होने वाली थी । आशा के विपरीत वहाँ की सफाई व अनुशासन प्रशंसनीय था । तभी ढोलक –मजीरों की ध्वनि के साथ अनगिनत प्रदीप जल उठे । भजन –कीर्तन कानों में कूंकने लगे । करतल ध्वनि के लिए हाथ खुद उठ गए । ।जल में एक –एक  दीपक हमने भी जलाया और गंगा के नयनाभिराम दृश्य को पलमों में बंद करके जल्दी ही उठ गए ।
    चुल्लू भर –भर कर आनंद पीने की बेला में कुछ दूरी पर बुजुर्गों की एक टोली बैठी थी । उनको आरती से ज्यादा अपनी बातों में ज्यादा दिलचस्पी थी । उदास आँखें –बुझे चेहरे !लगता था उनका सब कुछ छिन  गया है । परिवार की उपेक्षा और प्यार के अभाव में वे ईशवर की नगरी में ही बसने को मजबूर हो गए थे ।
     लौटते समय हम थक कर चूर थे पर रात के  सन्नाटे में नींद मुझे अपने आगोश में न ले सकी ।  बिस्तर पर लेते –लेते जरा सी सरसराहट से चौंक पड़ती । लगता उस पर सोने वालों की सांसें अब भी वहाँ चल रही हैं ।
      पौं फटते ही शीशायघर  से पैर बाहर रखा । सामने ही बाग में चौकी पर बैठा एक युवक ध्यान लगा रहा था । पीतल की चौकी पर ताँबे के चमकते फूल ,पैर भी शेर के पंजों वाले थे ।   हाथ में  रूद्राक्ष की माला लिए उसे फेर रहा था । मैं अपने घर की 60 साल पुरानी संस्कृति में लौट गई ।
     याद आया आज तो महाकुंभ है । उसमें नहाने से उसकी तरह तन –मन निर्मल हो जाएगा । ऐसा सोचकर बड़े –बड़े तौलिये कंधों पर डालकर साँप सी बलखती सीढ़ियों से गंगा किनारे उतर पड़े । दोनों तरफ बड़े बड़े विशाल पत्थरों से टकराती पत्थरो का ढेर लगा था और सीढ़ीनुमा कटे पहाड़ को पार करते समय यमराज नजर आने लगे थे ।
विशाल लहरों से टकराती दूध सी लहरों में मन अटक अटक जाता । गीली बालू में पैर धसते ही 
लड़कपन हंसने लगा । धम्म से हम पति-पत्नी नीचे बैठ गए। पर बैठकर भी मुझे चैन न मिला और बनाने लगी रेत का घरौंदा । कुछ भूरे –पीले सूखे पत्ते फड़फड़ाते घरौंदे पर बैठ गए । किलक उठी आह !कितना  सुंदर ! 





बुदबुदाने लगी  ---

    एक मेरे सामने है ,एक मेरे पीछे
    एक बालुई घरौंदा है दूसरा शीश महल
    एक नाशवान है ,दूसरा अमर
    सच तो यह है
    स्वर्ण कण बिखरे पड़े हैं
    अंदर  –बाहर
    बस परखने को चाहिए
    जौहरी की सी आँखें ।

     आनंद के पलों के समेटे हम दिल्ली लौट पड़े पर एक बात रास्ते भर सालती रही की न जाने कहाँ –कहाँ उपेक्षित इतिहास ,नि: श्वास लेती संस्कृति दम तोड़ रही है । रक्षा का कवच पहनाना उसे बहुत जरूरी है। 

 समाप्त 

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

॥ 4॥ कैम्ब्रिज म्यूजियम,


 कैम्ब्रिज म्यूजियम 
सुधा भार्गव 



Image result for pixel free images cambridge phitzviliyam museum gate


जिन दिनों मेरी पोती केंब्रिज यूनिवर्सिटी में पढ़ रही थी उन दिनों मुझे अपने बेटे के साथ कैम्ब्रिज शहर घूमने का अवसर मिला। वहाँ का प्रसिद्ध म्यूजियम भी हम देखे बिना न रहे। बड़ी खूबसूरती से सुनहरे रंग के बने अन्नास व फूल गेट की शोभा बढ़ा रहे थे। 





       कैम्ब्रिज शहर के दिल में बसा फिटजविल्लियम संग्रहालय अनूठी इमारतों में से एक है। इसकी स्थापना 1816 में मेरियन के सातवें विस्काउंट फिटजविल्लियम ने की थी। जिसने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय  में कला संगीत के अपने विशाल संग्रह को दान में दे दिया था। वह कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में  ट्रिनिटी हॉल कालेज का छात्र था। उसने अपने पूरे जीवन में कलात्मक व दुर्लभ चीजों का संग्रह किया। उसे 144 डच चित्र तो अपने दादा की मृत्यु के बाद विरासत में मिले थे। उसने असाधार्ण कृतियों को जोड़कर उन्हें नया स्वरूप दिया जो संग्रहालय की शान बने हुए हैं। उसका खास शौक तो साहित्यिक और संगीत पाण्डुलिपियों के लिए था।

       हम यहाँ प्रसिद्ध कलाकार रूबेन्स ,ब्रेगेल,मोनेट,और पिकासो की पेंटिंग्स व प्रिंट देख आश्चर्य में डूब गए।



प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर पेंटिंग्स 















इटेलियन पेंटिंग्स

इस बालिका की भोलेपन को तो बहुत देर तक टकटकी लगाए देखती रही। लगा साक्षात यह मेरे सामने बैठी है।






आश्चर्य जनक पेंटिंग 


 इसको दूर  से देखा तो लगा कि बेलबूटें--फूल-पत्तियाँ रेशम के धागों से काढ़े गए हैं। यह एक शीशे के बॉक्स में सुरक्षित थी। पास आने पर एहसास हुआ की प्राकृतिक रगों से रेशमी कपड़े पर पेंटिंग हुई है। आर्टिस्ट की कलाकारी पर मुग्ध हो उठी। प्राचीन समय में आजकल की तरह बने बनाए ऑइलपेंटिंग या एक्रलिक कलर नहीं होते थे। बल्कि बड़ी मेहनत से ईश्वर प्रदत्त रंगबिरंगे फूल-पत्तियों  से रंग बनाए जाते थे। 




ग्रीस,रोम,मिस्त्र की कलाकृतियों का तो यहाँ भंडार है।  




प्राचीन संरक्षित मिस्त्र की ममी 


कास्य सवार 


 संग्रहालय में  मध्य युग के सिक्कों का अच्छा खासा संग्रह है।जापान और कोरिया से अँग्रेजी  और यूरोपियन मिट्टी के बरतन , काँच ,फर्नीचर,घड़ियाँ ,चीनी जेड और चीनी मिट्टी के बर्तन भी वहाँ अपनी समृद्धि की कथा कहते प्रतीत होते हैं। जिसे सुनने को दर्शक के पाँवों की गति स्वत:ही धीमी  हो जाती है।  


नयनाभिराम चायना पोटरी,पेंटिंग व फोटोज का अद्भुत संगम 


केंद्रीय विस्टा हॉल के बाहर की गई प्रभावशाली सैटिंग


काफी घूमने के बाद थकान हो गई थी । तब भी वहाँ की अनोखी कृतियों को देखते देखते जी नहीं भरा था। बैठे ही बैठे अपनी नजर चारों तरफ घुमाने लगी। जहां तक हो सकता था हर छवि को अपने पटल पर चित्रित कर लेना चाहती थी। जहां जिस हॉल मैं बैठी हूँ ,वहाँ पहले हर कोई प्रवेश नहीं पा सकता था। विशेष प्रतिष्ठित वर्ग के लोग ही अंदर आ सकते थे पर 1848 से यह जनता के लिए खोल दिया गया है। 

                प्रवेश द्वार की सीढ़ियाँ उतरते उतरते भी  संग्रहालय के हर कोने पर दृष्टि अटक जाती थी।



सुंदर प्रतिमाओं वाला प्रवेश द्वार 


म्यूजियम में घूमते हुये  हम  इतिहास व संस्कृति की एक नई दुनिया में पहुँच गए थे। उसकी अनोखी यादें बहुत दिनों से कैमरे में कैद थीं। आज मैंने उन्हें मुक्त कर दिया है । शायद आपको भी वे रोमांचित करें।